बिजनेस

फास्टैग से प्रतिदिन 80 करोड़ रुपये का लेन देन

नयी दिल्ली
राष्ट्रीय राजमार्गों (National Highways) पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से ऑटोमैटिक टोल संग्रह करने की प्रणाली फास्टैग (Fastag) लोकप्रिय होने लगी है। तभी तो अब हर रोज फास्टैग से 50 लाख से भी ज्यादा ट्रांजेक्शन होने लगे हैं। यदि इन ट्रांजेक्शन का मूल्य देखा जाए तो यह हर रोज 80 करोड़ रुपये से भी ज्यादा का बन रहा है। हालांकि, यह आंकड़ा कल, 24 दिसंबर को ही इस स्तर पर पहुंचा है।

एनएचएआई कर चुका है 2.20 करोड़ फास्टैग जारी
भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने शुक्रवार को यहां जारी एक बयान में बताया कि फास्टैग के जरिये इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह अब रिकॉर्ड 50 लाख ट्रांजेक्शन पर पहुंच गया है। इसी के साथ इससे अब 80 करोड़ रुपये प्रतिदिन लेन देन होने लगा है। उल्लेखनीय है कि अभी तक एनएचएआई 2.20 करोड़ से भी ज्यादा फास्टैग जारी कर चुका है।

24 दिसंबर रहा इसके लिए ऐतिहासिक दिन
एनएचएआई का कहना है कि फास्टैग के जरिये टोल संग्रह 24 दिसंबर, 2020 को पहली बार 80 करोड़ रुपये प्रतिदिन के आंकड़े को पार कर गया। ऐसा पहली बार हुआ है। फास्टैग लेनदेन 50 लाख प्रतिदिन के रिकॉर्ड पर पहुंच गया है। उल्लेखनीय है कि एक जनवरी, 2021 से वाहनों के लिए फास्टैग अनिवार्य कर दिया गया है। इसके मद्देनजर टोल प्लाजा पर वाहनों को बिना किसी रुकावट की आवाजाही के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए गए हैं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close