विदेश

Afghanistan: 2 करोड़ से अधिक लोगों को तत्काल मदद की जरूरत, पांच साल से कम उम्र के 11 लाख बच्चे कुपोषण से प्रभावित

काबुल
अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। देश की अर्थव्यवस्था संकट में है। बढ़ती गरीबी, और वित्तीय अस्थिरता के बीच एक संगठन सेव द चिल्ड्रन ने एक रिपोर्ट में बताया कि अफगानिस्तान में लगभग 2.44 करोड़ लोग, जिनमें 1.3 करोड़ बच्चे शामिल हैं, जिनको तत्काल मानवीय सहायता की जरूरत है। खामा प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को जारी रिपोर्ट में अफगानिस्तान में 9 लाख बच्चों सहित 1.89 करोड़ लोगों के जून और नवंबर 2022 के बीच एक आपातकालीन या गंभीर भोजन असुरक्षा का सामना कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के अनुसार, 97% अफगान आबादी अत्यधिक गरीबी में रहती है और हर दिन गरीबी रेखा से नीचे गिर रही है।

पांच साल से कम उम्र के 11 लाख से अधिक बच्चे कुपोषण से पीड़ित
खामा प्रेस ने बताया कि पांच साल से कम उम्र के 11 लाख से अधिक अफगान बच्चे तीव्र कुपोषण से पीड़ित हैं, जबकि कोविड -19, खसरा, एक्यूट वाटर डायरिया (एडब्ल्यूडी), और डेंगू बुखार उन कई बीमारियों में से हैं, जिनका अफगानिस्तान वर्तमान में सामना कर रहा है। इसके अलावा, यूक्रेन संकट का खाद्य लागत में वृद्धि पर व्यापक प्रभाव पड़ा है और इसलिए कई अफगानों के लिए यह पहुंच से बाहर हो गया। बता दें कि, पिछले साल अगस्त में अफगान सरकार के पतन और तालिबान की सत्ता में वापसी के बाद से अफगानिस्तान में मानवाधिकारों की स्थिति खराब हो गई है।

हालांकि देश में लड़ाई समाप्त हो गई है, गंभीर मानवाधिकारों का उल्लंघन बेरोकटोक जारी है, खासकर महिलाओं और अल्पसंख्यकों के खिलाफ। इसके परिणामस्वरूप, अफगानिस्तान में महिलाओं और लड़कियों को मानवाधिकार संकट का सामना करना पड़ रहा है, जो गैर-भेदभाव, शिक्षा, काम, सार्वजनिक भागीदारी और स्वास्थ्य के मौलिक अधिकारों से वंचित हैं। इसके अलावा, देश में खाद्य उत्पादों की लगातार बढ़ती कीमतें अफगानों के लिए एक नई चुनौती बनकर उभरी हैं। तीन महीने से भी कम समय में, कई अफगानों को भुखमरी के कगार पर खड़ा कर दिया है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close